बीएड की फर्जी डिग्री पर नौकरी करने वाली शिक्षिका बर्खास्त

         गोरखपुर : आगरा विश्वविद्यालय की फर्जी बीएड डिग्री पर नौकरी हासिल करने वाली एक और परिषदीय शिक्षिका को बेसिक शिक्षा विभाग ने बर्खास्त कर दिया है। आगरा विश्वविद्यालय की फर्जी डिग्री के सहारे नौकरी करने के मामले में इसके साथ जिले में अब तक छह फर्जी शिक्षकों को बर्खास्त किया जा चुका है। 
      बेसिक शिक्षा विभाग इन फर्जी शिक्षकों पर मुकदमा पंजीकृत कराने के साथ ही वेतन रिकवरी की कार्यवाही शुरू करेगा। बीएसए बीएन सिंह के मुताबिक आगरा विश्वविद्यालय से फर्जी डिग्री हासिल करने वाली भटहट ब्लॉक की एक शिक्षिका को बर्खास्त किया गया है। उसके विरुद्ध मुकदमा दर्ज कराकर वेतन रिकवरी की कार्रवाई की जाएगी।
आगरा विश्वविद्यालय से वर्ष 2005 में बीएड की डिग्री में फर्जीवाड़ा को लेकर एसआईटी व एसटीएफ इसकी जांच कर रही है। इसको लेकर तकरीबन चार हजार शिक्षक जांच के दायरे में हैं। एक हजार से अधिक शिक्षकों पर अब तक कार्रवाई भी हो चुकी है। एसआईटी को भटहट ब्लॉक के प्राथमिक विद्यालय गुलरिहा पर तैनात शिक्षिका रिंकू बाला सिंह के प्रमाणपत्रों के फर्जी होने की शिकायत मिली थी। इसके बाद इस मामले की जांच शुरू हुई। 
विभाग ने प्राथमिक जांच के दौरान दस्तावेज संदिग्ध मिलने पर शिक्षिका को निलंबित करते हुए वेतन आहरण पर रोक लगा दी। मामले की जांच के लिए खंड शिक्षा अधिकारी को नामित किया गया। जांच में शिक्षिका के दस्तावेजों का सत्यापन कराया गया तो आगरा विश्वविद्यालय से हासिल की गई डिग्री फर्जी निकली। जिसके बाद शिक्षिका को बर्खास्त कर दिया गया।


टिप्पणियाँ